पता आपको भी है वादा किसने तोड़ा था,

हमसे बेवफाई कर किसी और से रिश्ता जोड़ा था…

कहें थे हम बताइये क्या हमसे अच्छा कोई है..?

जो है तो फिर जाइये खुशहाल, रहे खाली हमारा झोला,

पूरी आजादी के बावजूद भी आप ने झूठ बोला….

हम भी जान गए आपने रुखसत का है ठान लिया…;

कसम वालिदा की खाई आपने, चलो मान लिया…!


बाद उसके जिंदगी हमारी थी किसी नरक से क्या कम…

हर पल अंदरूनी घाव देते रहे नया ग़म…;

फिक्र हो आपको हमारी ये तो संशोधन का है विषय…

खाई में अवसाद के हमे धकेल कर आप मनाती रही विजय…!

मूर्ख तो हम है ही पर आपने कुछ ज्यादा समझा,

दिखता तो हमे था सब कुछ बस मन रहा मुहब्बत में उलझा…!

इतना बड़ा धोखा और इतना सारा दर्द सहकर,

हमने आगे बढ़ना जान लिया…;

अरसे बाद जब आपने झूठा अनुराग जताया,

बची मुहब्बत के खातिर, चलो मान लिया….!


हम आपसे पर्दा करते रहें आप जलवें दिखाती रही,

नहीं चाहिए थी हमदर्दी, न दोहरानी थी गलती वहीं,

पर एक रोज प्यासा दिल फिर एक बार फिसल गया…..

बेरुखी का वो गहरा इरादा इश्क की आग में जल गया…;

इस बार जो मुलाकात हुई, आपकी आँखे पढ़ ली,

बरसों के संदेहों के हिसाब ने आखिर एक जड़ ली….

कल भी और आज भी, आप हमारे थे ही नही,

हमने था दरिया डूबा इश्क का और आप कभी कश्ती पर चढ़े ही नहीं….!

गर इतनी ही खुद्दारी प्यारी हो तो मिलाइये एक बार नजरें….!!!!!!!

जो दर्द हमपर बीतें कहिये क्या कभी आपपर गुजरे….?

इतना बड़ा फरेब कर आपसे क्या ही उम्मीद करे….;

रेगिस्तान में जाकर बारिश की और क्या ही जिद करें…??

बस एक बार तसल्ली के लिए बस एक बार..

बता ही दो क्या कोई है हमसे नजदीकी यार….

चाहते तो हैं हिम्मत कर आप एक दफा सच बोले,

पर आपकी बेईमानी कभी आपको ये करने न देगी ये है हमने जान लिया…;

ऐसेमें झटककर हाथ आपने जब भी झूठा किस्सा सुनाया, चलो मान लिया…!!!!!

Categories: Poems

0 Comments

Yash · 25 August 2020 at 11:34 pm

Bohot khoob… 👍🏻👌
Follow my blog too
https://yash341.wordpress.com/

    The DPM · 28 August 2020 at 5:16 pm

    Already following bro…!

The DPM · 28 August 2020 at 5:15 pm

धन्यवाद…!

Rachana · 19 November 2020 at 3:16 pm

अतिसुंदर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *